बीडगांव में ड्रायफ्रूटस कंपनी के गोदाम में भीषण आग

नागपुर : कामठी तहसील के तहत आने वाले बीडगांव में ड्रायफ्रूटस कंपनी के गोदाम में भीषण आग लगने से करोड़ों रुपए का माल जलकर खाक हो गया। दमकल विभाग के 25 वाहनों ने आग पर काबू पाया। आग बुझाने के लिए गोदाम की दीवारें व शटर को भी कई जगह से तोड़ना पड़ा। इस आगजनी से बड़ी मात्रा में रखे बादाम, काजू व अन्य ड्राई फ्रूट्स जल कर खाक हो गया। दमकल विभाग ने बताया कि गोदाम के अंदर रखा काजू,बादाम व अन्य कुछ ड्रायफ्रूडस जलकर खाक हो गया। घटना बीडगांव स्थित नाकोड़ा फ्रूट के मेवा गोदाम में शनिवार को हुई।

घटना के बारे में मिली जानकारी के अनुसार बीड़गांव में नाकोड़ा ग्रुप के नाकोड़ा फ्रूट प्रोडक्ट प्राइवेट लिमिटेड एवं पार्श्वनाथ ओवरसीज के मेवा गोदाम है। पता चला है कि यह कंपनी मंजू चौधरी की है। इसके संचालक प्रवीण चौधरी और जयेश चौधरी हैं। इस कंपनी के गोदाम में 1 जून को देर रात करीब 1 से 2 बजे के बीच अचानक भीषण आग लग गई। आग पूरे गोदाम में फैल चुकी थी। इस बारे में दमकल विभाग को सूचना दी गई। सूचना मिलने पर दमकल विभाग के अधिकारी- कर्मचारी घटनास्थल पर चार दमकल वाहनों के साथ पहुंचे। दमकल कर्मियों ने आग बुझाने का कार्य शुरू कर दिया ।

आग की तीव्रता को देखते हुए घटनास्थल पर शहर और ग्रामीण क्षेत्र से वाहनों को बुलाया गया। इस बीच कंपनी के संचालक भी वहां पहुंच चुके थे। आग इतनी भयंकर थी कि उस पर काबू पाने के लिए करीब 25 घंटे लग गए। 25 घंटे के बाद बाद यह आग पूरी तरह बुझ नहीं पाई थी। रविवार की सुबह करीब 6 बजे तक आग धधक रही थी। दमकल कर्मियों ने एहतियात के तौर पर रविवार को भी दमकल वाहन वहां पर खडा कर रखा था।

कहा जा रहा है कि आग शायद शार्ट सर्किट से लगी होगी। दमकल विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस मामले की जांच चल रही है। गोदाम के अंदर फायर फाइटिंग की किस तरह की सुविधा थी। इस बारे में भी छानबीन जारी है। अग्निकांड से उक्त कंपनी की संपति व बडी मात्रा में रखा स्टॉक जलकर खाक हो जाने से करोड़ों रुपए का नुकसान माना जा रहा है।

और पढिये : PM मोदींना या देशात मनमानी करू देणार नाही ! : ओवेसी