नागपुर समेत विदर्भ में मूसलाधार वर्षा की चेतावनी

नागपुर : 12 दिन देरी से पहुंचे मानसून ने 2 दिन में देरी की बहुत कुछ भरपाई कर दी। 27 जून को सामान्य से 77 प्रतिशत तक कम बारिश शनिवार दिन से रविवार रात हुई बारिश के चलते 50 प्रतिशत से अधिक रिकवर होगया है।

दो दिन में शहर में 101 मिमी से अधिक बारिश दर्ज की गई। इससे 1 जुलाई को शहर में 1 जून से 1 जुलाई सुबह तक 133.6 मिमी वर्षा दर्ज की जा चुकी है, जो औसत 177.2 से 25 प्रतिशत कत है। कमोबेश विदर्भ का भी यही हाल है। संपूर्ण विदर्भ में 1 जुलाई सुबह तक 108.9 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई है, जो सामान्य 180.5 से 40 प्रतिशत कम है। 27 जून तक विदर्भ में 34.9 प्रतिशत वर्षा दर्ज हुई थी, जो औसत से 73 प्रतिशत कम थी।

विदर्भ के गोंदिया में अभी भी औसत से 61 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की गई है। जबकि यवतमाल में औसत से 52 प्रतिशत, भंडारा तथा गढ़चिरोली में 49 व वासिम में सामान्य से 47 प्रतिशत वर्षा कम हुई है। रविवार रात करीब 9.30 बजे शुरू हुई मूसलाधार बारिश ने शहर को कई स्थानों पर डुबो दिया। जगह जगह पानी भरने से आवागमन में असुविधा हुई।

साथ ही निचली बस्ती में रहने वालों पर विपदा ही टूट पड़ी। नई बनी सड़कें ऊंची हो जाने और पानी की निकासी की उचित व्यवस्था न होने से भी लोग परेशान हुए। इससे भी कई लोगों के घरों में पानी भर गया।

मौसम विभाग के अनुसार सोमवार सुबह 8.30 बजे तक 75.4 मिमी वर्ष रिकार्ड की गई। रात भर वर्षा से तथा सुबह से मेघों के आच्छादित रहने से धूप में तीखापन नजर नहीं आया। गर्मी से राहत रही, लेकिन उमस ने परेशान किया। मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को अधिकतम तापमान में रविवार की अपेक्षा 3 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई।

करीब डेढ़ माह बाद पहली बार सोमवार को अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे रहा। अधिकतम तापमान 30.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 3 डिग्री नीचे रहा। न्यूनतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री नीचे 22.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। आर्द्रता अधिकतम 89 तथा न्यूनतम 78 प्रतिशत रही।

और पढिये : कांग्रेस एस सी सेल के अध्यक्ष नितीन राऊत ने दिया इस्तीफा