‘वज्रवृक्ष’ ने मारी बाजी, मिला प्रथम पुरस्कार

नागपुर : सांस्कृतिक कार्य संचालयनालय द्वारा “वज्रवृक्ष:’ नाटक को 58ंवीं महाराष्ट्र राज्य संस्कृत नाट्य स्पर्धा की अंतिम फेरी में प्रथम पुरस्कार देने की घोषणा की गई। नाटक की प्रस्तुति इंद्रधनु कलाविष्कर संस्था मिरज द्वारा की गई। साथ ही सावित्रीबाई फुले पुणे विद्यापीठ संस्था द्वारा प्रस्तुत नाटक “अनुबंध:’ को द्वितीय पुरस्कार तथा सीपी एंड बेरार महाविद्यालय नागपुर द्वारा प्रस्तुत नाटक “शशविषाणम’ को तृतीय पुरस्कार दिया गया।

इसके साथ ही दिग्दर्शन में प्रथम धनजंय जोशी, द्वितीय सुधर्म दामले, नाट्यलेखन में प्रथम प्रभाकर भातखंडे, द्वितीय विजया क्षीरसागर, प्रकाश योजना प्रथम आनंद केलकर, द्वितीय सुचित्रा गिरिधर, नेपथ्य प्रथम प्रतुल पवार, द्वितीय सतीश देसाई, रंगभूषा में प्रथम वर्षा करंदीकर, द्वितीय ऋतुजा वानखेड़े, उत्कृष्ट अभिनय प्रतीक जोशी, सौरभ बीरमवार, साध्वी मराठे, अंजलि आमडेकर, विभा क्षीरसागर, रसिका दीवान, अक्षता जेस्ते, सुरभि कुलकर्णी, सतीष ठेंगडी, ब्रदीश कट्टी, चिन्मय पुजारी, सिद्धांत छाबरिया आदि को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम का आयोजन सायंटिफिक हॉल लक्ष्मी नगर में किया गया। स्पर्धा में 15 नाटकों का मंचन किया गया। निर्णायक की भूमिका लीना रस्तोगी, पराग जोशी, डॉ. भरत पंडा ने निभाई। पुरस्कृत विजेताओं का सांस्कृतिक कार्य मंत्री विनोद तावडे ने अभिनंदन किया।

और पढे : कविवर्य सुरेश भट पुण्यतिथीनिमित्त मनपातर्फे अभिवादन

Comments

comments