क्या रद्द हो सकता है भारत-बांग्लादेश के बीच दिल्ली में होने वाला टी20 मैच?

3 नवंबर को दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में बांग्लादेश से भिड़ेगी टीम इंडिया (India vs Bangladesh), लेकिन प्रदूषण के बढ़े स्तर से खिलाड़ियों की सेहत पर खतरा

India vs Bangladesh

क्या वाकई एक इंटरनेशनल क्रिकेट मैच के लिए दिल्ली तैयार है? तीन नवंबर को भारत और बांग्लादेश के बीच टी 20 मुकाबला (India vs Bangladesh T20I Match) होना है. मंगलवार से रविवार के बीच महज चार दिन पड़ते हैं. उसमें भी आपको अभ्यास के लिए दो दिन या कम से कम एक दिन तो चाहिए. अगर भारत और बांग्लादेश दोनों टीमें सिर्फ एक दिन भी अभ्यास करती हैं, तो वे दिल्ली की जहरीली हवा में दो दिन यानी शनिवार और रविवार को मैदान पर होंगी. क्या वाकई ऐसा माहौल क्रिकेट के लिए मुफीद है? क्या हम मैच के लाइव टेलीकास्ट के दौरान दिल्ली की जो तस्वीर पेश करेंगे, वो अच्छी होगी? उससे भी बड़ा सवाल कि कहीं इस मैच को प्रदूषण की वजह से रद्द तो नहीं करना पड़ेगा?

साथ में लगी तस्वीर से जाहिर है कि मंगलवार को सुबह 11 बजे दिल्ली का क्या हाल है. आनंद विहार में AQI 534 है. दिल्ली के बाकी हिस्सों में भी हाल अच्छा नहीं है. ऐसे में क्या यह मैच हो पाएगा? ध्यान रखिए, मैदान पर दौड़ते हुए प्रदूषण अपना और गहरा असर छोड़ता है. सिरदर्द, चक्कर आना, उल्टियां.. ये सब दौड़ने की वजह से हो सकता है. इसीलिए ज्यादा प्रदूषण में एक्सरसाइज या रनिंग के लिए मना किया जाता है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उम्मीद जता चुके हैं कि मैच होगा. उन्होंने कहा कि हमने पॉल्यूशन से निपटने के इंतजाम किए हैं. उन्होंने ऑड ईवन स्कीम की भी बात की. हालांकि यह स्कीम मैच के अगले दिन यानी चार नवंबर से लागू होनी है.

दो साल पहले प्रदूषण की वजह से रुका था इंटरनेशनल मैच

दिल्ली पहले भी प्रदूषण (Delhi Air Pollution) की वजह से शर्मसार हो चुकी है. दो साल पहले की तस्वीर याद कीजिए भारत और श्रीलंका के बीच मैच था. श्रीलंका के लाहिरू गमगे अपने घुटनों पर बैठे हुए थे. सिर नीचे था. उल्टी कर रहे थे. दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर पूरी दिल्ली की तरह धुंधलका छाया था. उस रोज दोपहर में इंडिया गेट के आसपास पीएम 2.5 का स्तर 337 था, जो सामान्य से करीब छह गुना ज्यादा है. पीएम 10 का स्तर 541 था. वो भी करीब छह गुना ही है. मैच रुका. लंच के बाद करीब 17 मिनट तक खेल नहीं हुआ.

इस बार जो अनुमान है, उसके मुताबिक AQI स्तर 200 के आसपास होगा. इस समय ढाका में एयर क्वालिटी इंडेक्स 150 से ज्यादा है. यानी शुक्र मना सकते हैं कि वो टीम खेलने वाली है, जिनका मुल्क प्रदूषण की समस्या से जूझ रहा है. बांग्लादेश की जगह अगर न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड जैसी टीमें होतीं, तो इस मैच पर गहरा संकट होता. इसके बावजूद अगर कुछ खिलाड़ी श्रीलंकाई टीम की जगह मास्क पहने नजर आए, तो समझ सकते हैं कि वो तस्वीर पूरी दुनिया में कैसा संदेश देगी. ‘इनफेमस डेल्ही स्मॉग’ हमेशा से इंग्लैंड या ऑस्ट्रेलिया की हेडलाइन बनती रही है.

प्रदूषण की वजह से रद्द हुए हैं मैच

दिल्ली में क्रिकेट मैच प्रदूषण (Delhi Air Pollution) की वजह से रद्द हो चुके हैं. साल था 2016. नवंबर में दो रणजी मैच रद्द कर दिए गए थे. तब भी वजह प्रदूषण थी. बंगाल और गुजरात को फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में खेलना था. हैदराबाद और त्रिपुरा का मैच करनैल सिंह स्टेडियम में होना था. तब मनोज तिवारी और प्रज्ञान ओझा की तस्वीरें हर जगह पब्लिश हुई थीं, जो मास्क पहने मैदान पर खड़े थे. अभी तो यह उम्मीद की जानी चाहिए कि एक्यूआई स्तर 300 पार नहीं करेगा, जिसे खतरनाक माना जाता है. दूसरा यह भी शुक्र करिए कि सामने बांग्लादेश की टीम है. कोई और टीम होती, तो यकीनन अब तक यह बड़ा मुद्दा बन चुका होता.

Comments

comments