‘माँ अनसुया पारडसिंगा निवासिनी’ फिल्‍म का चित्रीकरण शहर में

नागपूर : चमत्कार ऐसा एक शब्द जिसे आज की युवा पीढ़ी नहीं मानती किन्तु इसके विपरीत आज भी हम भगवान को मानते है। यह देश साधू संतो का देश है, जहा उन्होंने कई चमत्कार किये है। ऐसे ही विदर्भ के पारडसिंगा स्थित आराध्‍य दैवत माँ अनसुया थी जिन्होंने उस समय कई चमत्कार किये जिसकी वजह से विदर्भ के लोग आज उन्हें “माता अनुसया” के नाम से पूजते है। उन्होंने किये चमत्कार और इनका जीवनपट सबको पता चलना जरूरी है, ताकी उनका प्रचार पुरे भारत मे हो इस उद्देश से उनके जीवनपट पर फिल्म बनाई जा रही है। इनके जीवन पर आधारित मराठी फिल्म ‘माँ अनसुया पारडसिंगा निवासिनी’ फिल्‍म का चित्रीकरण कि शुरूवात २५ जनवरी से रामटेक से प्रारंभ हो चुकी है। इस इल्म मे विदर्भ के कलाकारो मौका दिया गया है। फिल्म का चित्रीकरण विदर्भ के पारडसिंगा, नागपूर, रामटेक यहा किया जा रहा है, जिसके लिए रामटेक मे भव्‍य सेट तयार हो चुका है।

इस चित्रपट में मा अनसुया के बाल विवाह से लेकर उनके संसारीक जीवन और संसारीक जीवन त्‍याग कर फिर अपनी अद्‌भूत चमत्‍कार का प्रत्‍यय भक्‍त को देखने मिलेगा। ग्रामवासियोव्‍दारा हुयी अव्‍हेलना, उसके बाद ग्रामवासीयोने माता की दैवी शक्‍ती को देखकर उन्हें अपनाना, भक्‍त कैसे जुडते गये यह सब चित्रण फिल्म मे देखणे को मिलने वाला है। फिल्म की निर्मिती माँ अनसुया फिल्‍मस की है। चित्रपट के निर्माता अशोक खोडे, दिग्‍दर्शक संजीव मोरे, लेखन व संवाद संजय शिवरकर है तथा इस फिल्म में मुख्य किरदार मराठी अभिनेता देवेंद्र दोडके है। रवीभनव मे आयोजित पत्रकार परिषद मे हेमंतभाउ नागपुरे एवं मौनी महाराज उपस्‍थित थे।

Comments

comments